माँ

💕माँ💕

मेरा नाम है जो पहचान है जो,मेरे जीवन का आधार है जो,
जिसने है मुझको जनम दिया,मेरी सासो का हर तार है जो,
कहते हैं उसे वो जननी है,कहते हैं उसे वो ग्रहणी है,
मेरी सुबह का आगाज़ है जो,कहते हैं उसे इक माँ है वो,
सूरज से पहले उठती है,तारों को सुला कर सोती है,
मेरी नींदों की मेरे सपनों की जो खैर मनाती रहती है,
भगवान की है परछाई जो,कहते हैं उसे इक माँ है वो,
जिसकी दुनिया बस मुझमे बसी,
मेरी सासो से जिसकी डोर बंधी,
मेरे आस पास ही घूम रही,
जिसकी खुशियो और गम की नदी, मेरे दिन से उसका दिन होता,मेरी रातों से है रात थमी,
मेरी हंसी से जिसकी खुशी जुड़ी,मेरी आह से लगती आंसु की झड़ी,
मुझे छू ना सके मुश्किल की घड़ी माँ कदम से कदम मिला के खड़ी,
जो सोचो कभी हम माँ के बिना क्या हैं और क्या हो सकते हैं,
पर माँ के बिना हम कुछ भी नहीं ,ना थे ना कभी बन सकते हैं जिसके आंचल मे दुनिया की हर खुशी मिली तकदीर खिली,
कहते हैं उसे की माँ है वो…कहते हैं उसे इक माँ है वो…’$’

One thought on “माँ

Leave a Reply

Your email address will not be published.