दोस्त मेरे कुछ कम ही होते है

दोस्त मेरे कुछ कम ही होते है, बातो के सिलसिले भी कम ही होते है। बातो से दिल जीतने का हुनर मुझे आता नहीं, बातो बातो मे फसाने कुछ कम ही होते है।

कुछ बचपन के यार, कुछ जवानी के दिलदार , इक नादान सा इश्क और बचपने हजार , इतना ही जहां मेरा बस इतना सा है संसार।

दुनियादारी से फासला तय ही होता है अपना, शायद इसीलिए सैकड़ों झूठे अपनों से चंद सच्चे बेगाने यार रखता हूं। कुछ फ़िज़ूल ताने अनसुने करता हूं और सपने हजार रखता हूं।

7 thoughts on “दोस्त मेरे कुछ कम ही होते है

  1. CBD says:

    I truly love your website.. Great colors & theme.

    Did you make this amazing site yourself? Please reply back as I’m planning to create my own website and would love to find out
    where you got this from or what the theme is named.
    Many thanks!

  2. CBD says:

    Thanks for ones marvelous posting! I quite enjoyed reading it,
    you will be a great author. I will remember
    to bookmark your blog and will eventually come back at some
    point. I want to encourage you to definitely continue your great writing, have a
    nice afternoon!

  3. Sanjeevani says:

    👍May ur…और सपने हजार रखता हूं, all come true. Superbly expressed thought.Thank you for sharing.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.