दोस्त मेरे कुछ कम ही होते है

दोस्त मेरे कुछ कम ही होते है, बातो के सिलसिले भी कम ही होते है। बातो से दिल जीतने का हुनर मुझे आता नहीं, बातो बातो मे फसाने कुछ कम ही होते है।

कुछ बचपन के यार, कुछ जवानी के दिलदार , इक नादान सा इश्क और बचपने हजार , इतना ही जहां मेरा बस इतना सा है संसार।

दुनियादारी से फासला तय ही होता है अपना, शायद इसीलिए सैकड़ों झूठे अपनों से चंद सच्चे बेगाने यार रखता हूं। कुछ फ़िज़ूल ताने अनसुने करता हूं और सपने हजार रखता हूं।

Nazar nazariya

Nazar nazariye ka fark hai, sab k liye ek tark hai… Kabhi paas ho kar bhi Jannat nahi dikhati, kisi ki zindagi jannat-e-nark hai.

Dil-o-dimaag to beshak sabhi ko mila, par khushiya dhundne k hunar me thoda fark hai… Aksar khushiya dil hi deta hai , dimaag to bas ek marz hai…

Ek marz jo namumkin se dar paal leta hai, dil to bas badhawashiyo me hi mast hai…

Ek hunar un bachoo se seekh lena, ladna jhagadna fir khilkhila lena…khel khilono k ye mohtaj nahi ye , kabhi tum bhi kaagaj ki kashti chala lena kabhi bewajah daud laga lena...

Happy Diwali

A very happy and prosperous deepawali to everyone, many of us have managed to avoid crakers though there were lots of them out there but atleast we have taken our first step towards caring for our environment.

I bribed my kids with some extra toys and sweets and they happily agreed to go this diwali without crackers. And good thing is this time they are happily playing all around but everytime they get serious throat infection during Diwali .

So I prefer to see my kids happy over those unnecessary crackers.

Aj hawa me zeher kuch kam to hai, kilkariyo se bhara fir bhi angan to hai … Kya rakha hai kambakht zehrile ujalo me, diyo se bhi ghar roshan to hai…

Pathako ka dhuan nahi, fulo ki khushbu to hai …rangoli k rang hai, tyohar ka mausam to hai…

शून्य

शून्य से ही जग बने, शून्य पर ही सब खत्म, शून्य से ही मैं और तुम, शून्य से ही है जिवन।

शून्य से ही तू बढ़े, शून्य से ही तू चला, आकर रुकेगा शून्य पर ही, चक्र ये निरंतर चला।

लगे कभी तूझे कि सामने है अंत खड़ा, याद रखना प्रारंभ की है यही विशेषता, अंत है आरंभ भी, हर आरंभ का है अंत लिखा।

शून्य पर है तू खड़ा और शून्य पर है तू चला, शून्य भी तब तक चलेगा, जब तलक है तू चला।

विचित्र है पर सत्य है , शून्य यह अद्भुत बड़ा, ना कोई भी नोंक इस में, सादगी से है भरा ।

सब कहीं ना कहीं जाकर रुके, शून्य ये निरंतर चला, और शून्य बस चलता रहा।

Sapno ki zindagi

Zindagi ek sapne jaisi nahi ,

tera ek sapna hai zindagi,

Jee le is sapne k liye, warna to bewafaa hai zindagi,

Sapne k liye lad, sapne k liye jee, sapna hi ibadat hai, bas sapno ki hai zindagi

Shayad tu darega, shayad tu girega, sunsaan se rasto pe akela bhi padega, gir k sambhalega sambhal k fir girega

Isi chalne girne ka naam zindagi, tere ankhoon me rakha khwab zindagi

Manzilo me nahi rasto pe hai zindagi, jeetane ka nahi ladne ka hai naam zindagi

Ho sakta hai haar jaye tu, gir gir k fir bikhar jayye tu, kuch pal ruk, saaf kar apne zakhmo ko, dekh k fir ek naya sapna , chal uth fir jeene zindagi

Jeena sapno ko jee bhar k , fakr karna khud ki quabiliyat pe, jo chahe kahe zamana tu jeena Teri zindagi

Dikawe ki diwaare aksar khokli reh jaati hai , tu jeena tere sapno ki zindagi

बेवजह

जी ले जिंदगी बेवजह, एक बात तेरा साथ बेवजह,

थोड़ा लड़ थोड़ा मुस्कुरा ,ले हाथों में एक हाथ बेवजह ।

गम है तो खुशियां भी होंगी, मर्ज है तो दवाऐ भी होंगी,

तू ना कर फिकर , कभी जी ले इस कदर बेवजह।

माना कि तुझे काम बहुत है, जिंदगी में ना आराम बहुत है।

माना तेरे अरमान बहुत है, और बड़ा यह आसमान बहुत है,

फिर भी कभी उड़ते उड़ते थक जाए, पेड़ों की यहां छांव बहुत है ।

रुक जाना कभी यूं ही बेवजह, लेना सुकून के चंद लम्हे गुजार ,

कितना भी उड़ता रहे तो, खत्म ना होने वाला आसमान बहुत है।

कभी बचपन में जा, कभी पानी में नाव चला ,

कभी पकड़ उन तितलियों को , कभी कोई गीत गा ।

कभी जी ले कुछ पल ऐसे भी, सुना है यह जिंदगी बदनाम बहुत है।

Shubh Navratri

Durga bhi tu aur kali bhi tu…

Annapurna bhi tu aur Bhavani bhi tu…

Jeevan bhi tune diya, aakhir bhi tu…

Kuch din puji jaati fir kuchli jaati bhi tu…

Matlabi c duniya kuch ho chali is kadar…

Yahan Devi bhi tu aur kulta bhi tu…

Rijhane chale bhagwan ko , samajh aata insaan nahi…

Haath me saji Puja ki thaali, bagal ki chhuri dikhti nahi…

Naam pe tere hazaroo khoon manzoor hai, jo ayi insaniyat ki baari har koi Anjaan huzoor hai…

Dhoom hai navdurga ki, zarur mathe pe teeka laga lena…

Bas mandiro se usse nikaal k , is samaj me bhi barabari dila dena…

खामखा यह रात बदनाम हुई…

कुछ इस कदर यह रात बदनाम हुई, चंद बातें चर्चा ए आम हुई। दिन के उजालों में इंसानियत नाकाम हुई , फिर भी खामखा यह रात बदनाम हुई।

बेटियां जलती रही देश की, रोटियां सिकती रही फरेब की। जिसको मिला पेट भरता गया, चिताऐ सजती गई गरीब की ।

गांधी- भगत -आजाद की तस्वीरों को सजा दिया , नाम सब का याद रखा उसूलों को दफना दिया।

देश था यह वतन पर मरने वालों का, इन्होंने चंद नोटों की खातिर बिस्मिल को खान से लड़ा दिया।

काफी है।

इक किताब ,इक कलम काफी है।

कुछ लम्हे और तेरी याद काफी है।

सुकुन है चंद बातो में, बस कुछ अल्फाज ही काफी है।

शोर बहुत है इन गलियों में, कुछ खामोशीया ही काफी है।

जरुरत नहीं मुझे शोर शराबे और मैखानो की, इक कागज, इक कलम अौर तेरा खयाल ही काफी है।

Happy Daughter’s Day

Har ghar ki jaan hai beti, humesha khile wo muskaan hai beti , maa ke dil ka tukda aur baba ki jaan hai beti…

Rang bhare har angan me jo , khayal rakhe har kisi ka, uske bina sab suna hai , ghar ki hi pehchan hai beti…

Ronak bhi wo , Khushi bhi wo , bhai ki pehli dost bhi wo hai , maa ki akhari saheli bhi wo…

Jo jaye ghar se sab suna kar de , har lamha yaadon se bhar de ,Kisi anjane ghar me ja k , fir ek baar sab roshan kar de…

Isliye to vardaan hai beti , har ghar ka sammaan hai beti…

Happy Daughter’s Day