नई सुबह।

नई सुबह को बेताब आज हर चेहरा तो है, समय निकल रहा लेकिन वक्त ठहरा तो हैं,

उठने को बेताब है कदम हमारे लेकिन, कुछ छुपा हुआ सा डर का पहरा तो है ,

रात गहरी है तो सुबह नजदीक ही होगी, इंतजार की घड़ियां खत्म होने को होगी,

कुछ सब्र और रख लेना मेरे यारों, महफीले भी होगी और जिंदगी की रफ्तार भी होगी ।

यादें।

जी लेना ये वक्त कटने से पहले, बना लेना हसीन यादें वक्त गुजरने से पहले, जब कभी अंधेरा दिखेगा ये यादें ही देंगी हौसला तुझे, डूबने नही देंगी तन्हाई में , तमाम मुश्किलें भी आए अगर ।

यादों को कम तू समझना मत , ये वो दवाएं है जो दुआओं का काम करती है, खत्म हो जाती जब है जब हर दवा , यादें ही चमत्कार करती है।

फिक्र ना कर इस दुनिया की।

फिक्र ना कर इस दुनिया की , किसी को रिझाने तू आया नही, एक जिंदगी मिली तुझे तेरे लिए, किसी को समझाने तू आया नही।

सवाल उठाते है तू उठाने दे दुनिया वालो को, उनके जवाब तेरा काम नहीं, खुशी से कर खुशियां तैयार , तेरे गमों की भी किसी को दरकार नहीं।

श्रद्धांजली!!

वक्त की चोट से हर दिल यहां दहल रहा , अपनो की चिताओं से ये देश मेरा जल रहा, कुप्रभंद चरम पे है या गिद्धों की ये चाल है, जंग कोई छिड़ी नही पर धरती मेरी लाल है।

जहर है ये हवाओं में या रघो में तेरे पानी है, सांसों के लिए भटक रहा आज हर एक हिंदुस्तानी है, शमशानो में कतारें है , पर लाश हर अकेली है, रोने वाला संग नही , पर आंख हर रूदाली है।

तू चल के तो देख ।।

तू अंधेरे रास्तों से डरता है, आगे चल के तो देख । घबराता है अनजानी गलियों से, थोड़ा आगे बढ़ के तो देख ।

क्या पता ये रास्ता कहां ले चले, जो सोचा न हो इसी रास्ते पर मिले , मिले कोई हमसफर या कोई याद ही सही, कुछ भी हो खाली हाथ नहीं लौटेगा, थोड़ी हिम्मत कर के तो देख

जो ना किया हो उसे करने का मजा कुछ और है, नई राह चलने का मजा कुछ और है, रंग बहुत है दुनिया में, तू थोड़ा टटोल के तो देख।

हारने का डर मत रखना, गिरने का मलाल मत रखना, कुछ ना कर के यू भी जीने में क्या रखा है, तू कुछ कर के तो देख।

गलती ना हो जाए इसलिए छिप के ना बैठ जाना, गलती करना ही सीखने का पहला कदम है , तू गलती कर के तो देख।

दुनिया वाले तो हर एक से दुखी है, ताने अनसुने कर उनके , खुद के तराने तू लिख के तो देख ।

………..!!!

दिन तो शोर मे गुजार दिया हमने, रात ने कमबख्त सोने न दिया , शोर जो हुआ इस सन्नाटे का, हसने भी न दिया और रोने भी न दिया।

ना तेरा हाथ था हाथो में मेरे , ना तेरे आवाज थी कानो में,बस मैं था और एक गहरा सन्नाटा ।

ना रास्ते थे न मंजिले थी, ना ख्वाब थे न मुश्किलें थी, बस घड़ी की टिक टिक और वही गहरा सन्नाटा।

आज लगा सब रंग तुझ से है, सब उजाले तुझ से है, सब शोर भी तुझ से है और मेरी परछाईया भी तुझ से है। तू नही तो कुछ नहीं, बस वही गहरा , अंधेरा, डुबा देने वाला सन्नाटा।

एक तू ही तो है ।।

इक तू ही तो है मेरे साथ में, एक तू ही तो है। लड़ती झगड़ती अपनी मुश्किलों से , एक तू ही तो है।

पल पल टूटती मेरे लिए , पल पल बिखरती एक तू ही तो है। खुद को समेट समेट मुझे समेटती एक तू ही तो है।

भूल जाती हर दर्द अपना , भूलती है हर परेशानी, देखने वाली सिर्फ मुझे एक तू ही तो है, मेरा चेहरा मुझ से पहले पढ़े तू , अनचाहे डर पालती रहे , मुझे हर पल समझने वाली एक तू ही तो है।

ना चढ़ू मैं मंदिर-मज्जिद , ना मांगू मैं कोई खुदा , मेरा खुदा मेरा इश्क एक तू ही तो है। इक ही मांगू इस खुदा से, साथ तेरा हर पल रहे , लाख गिरे मेरे आंसू ,पोछने तो बस तू रहे।

कुछ रिश्ते।।

कुछ रिश्ते मिले अनजाने में, दिल को खुशियां वो दे चले, दस्तक कुछ हुई दिल में , कुछ नए फसाने बन गए।

कौन अपना कौन पराया, दुनिया के रिश्तों से दिल ये ना चले, सुकून जहां मिला इस दिल को, वहीं से एक रिश्ता पले।

कुछ खूबसूरत रिश्ते यू ही बन जाते है, बिना कुछ कहे सुने बरसो के जख्म भर जाते है।

Make it count

Trust your journey , you might get hurted , u might feel devastated .

Have faith, keep smiling, you will also be rewarded .

You will see beautiful palaces, you will meet awsome people.

You might be frustrated, tensed or helpless. In the end you will turn out to be more calmer, relaxed and matured person.

Every question need not to be answered, every battle need not to be fought. Talk to your self, it’s your journey , make it count.

मैं घमंडी ।।

लगता है तुझको की मैं घमंडी, तो मैं घमंडी , इश्क है हर चीज़ से मुझे हर इन्सान से इश्क है, और जो मेरा तनहाई से इश्क तुझे लगे घमंड , तो मैं घमंडी।

काम से भी इश्क किया है मैंने , इश्क का काम भी किया है मैंने, जो मेरी खुद्दारी तुझे लगे घमंड , तो मैं घमंडी ।

भाषा मेरी अजीब हर बोली का इसमें रंग है, क्या करू ये भारत मेरा जलतरंग है, हर छोर से निकले एक नई धुन, जो मेरी धुन तुझे लगे घमंड , तो मैं घमंडी ।

लोगो कि परवाह में में वक्त जाया ना करू, नफरतों के दलदल से दूर ही रहूं , अपने मे मस्त जो तुझे लगु घमंडी, तो मैं घमंडी ।

लोगो का क्या है, गाली ही देंगे, मुंह पर हसेंगे और पीछे बकेंगे , तेरी बकवास से मेरी मुस्कान बुलंद, जो दिखे तुझे मेरी मुस्कान मे घमंड, तो मैं घमंडी ।